Home / Latest Alerts / अपनी 800 से 900 शाखाओं को बंद कर सकता है बैंक ऑफ बड़ौदा

अपनी 800 से 900 शाखाओं को बंद कर सकता है बैंक ऑफ बड़ौदा

Last Updated On : 20 May 2019

नई दिल्ली। बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी), देना बैंक और विजया बैंक के विलय के बाद एक अप्रैल से सामने आए देश के दूसरे बड़े सरकारी बैंक को परिचालन को ठीक करने और उसकी दक्षता में सुधार करने के लिए 800-900 शाखाओं को या तो बंद किया जाएगा या फिर उन्हें दूसरी जगहों पर शिफ्ट किया जाएगा। जानकारी के अनुसार देना और विजया बैंक के बीओबी में मर्ज होने के बाद एक ही जगह पर तीनों के बैंकों की एक ही जगह पर शाखाओं के होने का कोई मतलब नहीं है।

यह भी पढ़ेंः- अब Amazon पर भी आसानी से कर सकते हैं फ्लाइट टिकट की बुकिंग, कंपनी ने भारत में शुरू की सुविधा

800 से 900 ब्रांचों की हुई है पहचान
अधिकारियों के अनुसार बीओबी की ओर से 800 से 900 ब्रांचों की पहचान की है, जिन्हें शिफ्ट या बंद की योजना पर काम होगा। अधिकारियों का कहना है कि इनमें से कुछ ब्रांचों को दूसरी जगहों पर शिफ्ट किया जा सकता है और कुछ को बंद भी किया जा सकता है। वहीं देना और विजया बैंक के क्षेत्रीय तथा संभागीय ऑफिसों को बंद ही किया जाएगा। क्योंकि उनके ऐसे ऑफिसों की कोई जरुरत नहीं है। बीओबी के अनुसार दक्षिण, पश्चिम तथा उत्तरी इलकों में उसकी मौजूदगी पर्याप्त है।

यह भी पढ़ेंः- IndiGo के CEO ने मानी आपसी मतभेद की बात, कहा - इससे कंपनी की रणनीति पर कोर्इ असर नहीं

बन गया है दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक
बीओबी में देना और विजया बैंक के विलय के बाद यह बैंक अब एसबीआई के बाद दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक बन गया है। बैंक की शाखाओं की संख्या 9,500 से अधिक जबकि एटीएम 13,400 से अधिक हो गई हैं। कर्मचारियों की संख्या 85,000 पहुंच गई है, जो 12 करोड़ ग्राहकों को सेवाएं दे रहे हैं। ऐसे में बैंक के ब्रांचों को बंद या शिफ्ट करने से ग्राहाकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी स्थिति में अधिकारियों का कहना है कि ग्राहकों को किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना होगा। उनके डाटा को सुरक्षित करने के बाद ही आगे कुछ निर्णय लिया जाएगा।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Published From : Patrika.com RSS Feed

comments powered by Disqus

Search Latest News

Top News