Home / Latest Alerts / एएफसी एशियन कप फुटबॉल : स्किल ही नहीं, फिटनेस भी बेहतर है इस भारतीय टीम की

एएफसी एशियन कप फुटबॉल : स्किल ही नहीं, फिटनेस भी बेहतर है इस भारतीय टीम की

Last Updated On : 12 Jan 2019

अबू धाबी : भारतीय फुटबॉल टीम पिछले दो-तीन सालों से शानदार प्रदर्शन कर रही है। इसके पीछे प्‍लेयर्स का कौशल बढ़ना और कोच कांस्‍टेनटाइन की कोचिंग तो है ही, लेकिन खिलाड़ियों की बेहतर हुई फिटनेस की बड़ी भूमिका से भी इनकार नहीं किया जा सकता है। टीम के फिजियोथेरेपिस्ट गिगी जॉर्ज ने भी माना कि पिछले कुछ सालों के दौरान खिलाड़ियों ने अपने फिटनेस पर काफी ध्‍यान दिया है। बता दें कि गिगी 2011 से भारतीय टीम के साथ हैं और हर दिन को वह एक नई चुनौती के रूप में देखते हैं।

स्‍पोर्ट्स साइंस के इस्‍तेमाल से बेहतर हुए नतीजे
अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआइएफएफ) ने गिगी जार्ज के हवाले बताया कि पिछले कुछ सालों में खिलाड़ियों की फिटनेस बेहतर हुई है। उन्‍होंने कहा कि आप जेजे लालपेखलुआ का उदाहरण ले सकते हैं। वह 2012 में भारत के लिए पहला मैच खेले थे तब से लेकर अब तक उन्होंने खुद को शारीरिक रूप से काफी बेहतर किया है। गिगी ने कहा कि वह इसके लिए एआइएफएफ को भी धन्यवाद देना चाहेंगे, जिन्होंने फिजियोथेरेपी के नए उपकरण टीम को मुहैया कराए। इसके अलावा डैनी डिएगन और जोल कार्टर का भी योगदान हैं। उनकी ओर से लाए गए स्पोर्ट्स साइंस के नए-नए तरीके से भी प्‍लेयर्स की फिटनेस बेहतर करने में मदद मिली।

प्‍लेयर्स को जरूरत के हिसाब से ट्रेनिंग दी जाती है
मेडिकल टीम के सदस्‍य डॉ शेर्विन शेरिफ ने कहा कि हर दिन का कार्यक्रम पहले ही तय कर लिया जाता है। सुबह की शुरुआत स्क्रीनिंग से साथ होती है। स्क्रीनिंग परिणामों के आधार पर, खिलाड़ियों की उनकी आवश्यकताओं के अनुसार जांच की जाती है। प्रशिक्षण सत्रों के दौरान हम प्रत्येक खिलाड़ी को ट्रैक करते हैं और उसके अनुसार कार्यवाही करते हैं।

सोमवार को है ग्रुप चरण का अंतिम मुकाबला
बता दें कि भारत सोमवार को बहरीन के खिलाफ एशियन कप के ग्रुप स्तर में अपना आखिरी मैच खेलना है। यह भारत के लिए करो या मरो का मैच बन गया है। अगर भारत को बिना किंतु-परंतु के दूसरे चरण में जाना है तो उसे यह मैच जीतना ही होगा।

Published From : Patrika.com RSS Feed

comments powered by Disqus

Search Latest News

Top News