Home / Latest Alerts / 10 हजारी क्‍लब में शामिल होने वाले 5वें बल्‍लेबाज बने धोनी, रोहित ने कहा- नंबर 4 पर करें बल्‍लेबाजी

10 हजारी क्‍लब में शामिल होने वाले 5वें बल्‍लेबाज बने धोनी, रोहित ने कहा- नंबर 4 पर करें बल्‍लेबाजी

Last Updated On : 12 Jan 2019

सिडनी : पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्‍लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने वनडे क्रिकेट में 10,000 रन पूरे कर लिए। दस हजार रन तक पहुंचने वाले वह भारत के 5वें तथा विश्‍व के 12वें बल्‍लेबाज बन गए। बता दें कि इस मैच से पहले धोनी को इस उपलब्धि तक पहुंचने के लिए महज एक रन की दरकार थी। उन्होंने शनिवार को आस्ट्रेलिया के साथ खेले जा रहे पहले वनडे मैच में रिचर्डसन की गेंद पर एक रन लेकर वनडे करियर में देश के लिए खेलते हुए 10,000 रन पूरे कर लिए।
हालांकि महेंद्र सिंह धोनी 50 ओवरों के क्रिकेट में पहले ही 10,173 रन बना चुके थे, लेकिन इनमें से 174 रन उन्होंने 2007 में एशिया एकादश की ओर से खेलते हुए अफ्रीका एकादश के खिलाफ बनाए थे।
धोनी से पहले सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली, राहुल द्रविड़ और विराट कोहली ही भारत के लिए वनडे में 10,000 रन बना सके हैं।

धोनी को 4 नंबर पर करनी चाहिए बल्‍लेबाजी : रोहित
धोनी के दस हजारी क्‍लब में शामिल होने पर मैच के बाद शतकवीर और टीम के उपकप्‍तान रोहित शर्मा ने कहा कि उनका मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी को नंबर-4 पर बल्लेबाजी करनी चाहिए। इस जगह के लिए वह सबसे उपयुक्त प्‍लेयर हैं। शनिवार को धोनी ने सिडनी में खेले गए आस्ट्रेलिया के साथ पहले गए वनडे मैच में 96 गेंदों पर 51 रन बनाए।

संकट से टीम इंडिया को निकाला
बता दें कि धोनी उस समय मैदान पर बल्लेबाजी करने आए थे, जब टीम इंडिया चार रन के स्कोर पर तीन विकेट गंवा कर गहरे संकट में फंस चुकी थी। रोहित के साथ मिलकर यहां से धोनी ने टीम इंडिया को संकट से निकाला और चौथे विकेट के लिए 137 रन की साझेदारी की। हालांकि उनके आउट होते ही टीम इंडिया फिर भहरा गई और 254 रन पर सिमट कर 34 रनों से हार गई।

नंबर 4 पर रायडू का रिकॉर्ड है शानदार
बता दें कि पिछली 13 पारियों में धोनी का औसत मात्र 25 का है, जबकि नंबर-4 पर बल्‍लेबाजी करते हुए अंबाती रायडू ने 45.72 का औसत निकाला है। इसके बावजूद रोहित नंबर-4 पर धोनी को बल्लेबाजी करते देखना चाहते हैं। उन्‍होंने कहा कि निजी तौर पर उन्‍हें हमेशा ऐसा लगता है कि धोनी को नंबर-4 पर बल्लेबाजी करनी चाहिए, जो टीम के लिए सही होगा। हालांकि रायडू ने भी नंबर-4 पर शानदार काम किया है, इसलिए यह पूरी तरह कप्तान और कोच पर निर्भर करता है कि वह इस बारे में वह क्या सोचते हैं।

13 महीने बाद धोनी के बल्‍ले से निकला अर्धशतक
बता दें कि धोनी ने दिसंबर 2017 के बाद से पहली बार वनडे में कोई अर्धशतक जमाया है। वह भी काफी धीमी बल्‍लेबाजी करते हुए। उन्होंने 51 रन बनाने के लिए कुल 96 गेंदों का सामना किया। इनमें से 63 गेंदें डॉट खेली। बता दें कि यह धोनी का 68वां अर्धशतक है। धीमी बल्‍लेबाजी के लिए धोनी का बचाव करते हुए रोहित ने कहा कि जब धोनी बल्लेबाजी के लिए आए तो उस समय टीम 4 रन पर ही तीन विकेट खो चुकी थी। आस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे इसलिए हमें उन गेंदों का सम्मान करना था। हमने थोड़ा समय लिया, यहां तक कि मैंने भी। उस समय अगर हम एक और विकेट खो देते तो मैच वहीं पर समाप्त हो जाता, इसलिए हमारी कोशिश थी कि खेल को आगे लेकर जाएं इसलिए हमने गेंदें खाली निकालीं। हमारे लिए यह अच्छा संकेत हैं कि धोनी ने यह दिखाया है टीम को जब भी उनकी जरूरत पड़ेगी वह ऊपर भी आ सकते हैं और बल्लेबाजी कर सकते हैं।

Published From : Patrika.com RSS Feed

comments powered by Disqus

Search Latest News

Top News